“चीज़े कम चुने, पर बेहतर चुने”

मैं खुली आँखों से देखता हु ,
तो कई और वस्तुओ की जरुरत लगती है ,images-5.jpg
पर आखें बंद कर लु तो ,
मेरी हर चीज़ मुझे खूबसूरत लगती है ।

 

2 thoughts on ““चीज़े कम चुने, पर बेहतर चुने””

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s